वाईएसएस संन्यासी द्वारा संचालित ध्यान-सत्र
(मंगलवार)

शाम 6:10

– 7:30 बजे तक

(भारतीय समयानुसार)

कार्यक्रम के विवरण

योगदा सत्संग सोसाइटी ऑफ़ इण्डिया/सेल्फ़-रियलाइज़ेशन फे़लोशिप केन्द्रों का लक्ष्य, परमेश्वर के साथ सम्पर्क स्थापित करना है। आप नहीं जानते कि जब भक्त प्रभु के नाम में एकत्रित होते हैं, तो परमपिता कितने प्रसन्न होते हैं।

— परमहंस योगानन्द

सूचनाः एसआरएफ़ वर्ल्ड कन्वोकेशन के दौरान वाईएसएस ऑनलाइन कार्यक्रमों का आयोजन नहीं किया जाएगा।

सप्ताह भर चलने वाला एसआरएफ़ वर्ल्ड कन्वोकेशन 14 से 20 अगस्त (रविवार से शनिवार) तक ऑनलाइन आयोजित किया जाएगा।

जन्माष्टमी पर विशेष ध्यान (शुक्रवार, 19 अगस्त, सुबह 6:30 से 8:00 बजे तक, भारतीय समयानुसार) के अतिरिक्त, सोमवार, 15 अगस्त से शनिवार, 20 अगस्त तक वाईएसएस ऑनलाइन ध्यान केंद्र द्वारा आयोजित अन्य सभी कार्यक्रम रद्द किए जाएंगे। रविवार, 21 अगस्त को शाम के ध्यान के साथ यह कार्यक्रम पुनः आरंभ होंगे।

योगदा सत्संग सोसाइटी ऑफ़ इंडिया (वाईएसएस) ऑनलाइन ध्यान केंद्र को वाईएसएस/एसआरएफ़ अध्यक्ष श्री श्री स्वामी चिदानंद गिरि द्वारा 31 जनवरी, 2021 को लॉन्च किया गया था। तब से, यह वाईएसएस भक्तों और मित्रों को भारत और दुनिया भर के कई अन्य लोगों के साथ संगति में सामूहिक ध्यान के आशीर्वाद साझा करने का अवसर प्रदान कर रहा है।

हम आपको प्रत्येक मंगलवार शाम को वाईएसएस संन्यासी द्वारा संचालित ध्यान-सत्र में शामिल होने के लिए आमंत्रित करते हैं। यह ध्यान-सत्र शक्ति-संचार व्यायाम के अभ्यास, जिसे कि एक वीडिओ रिकॉर्डिंग के साथ-साथ किया जाता है, से प्रारम्भ होता है। इसके पश्चात वाईएसएस संन्यासी ध्यान संचालित करते हैं।

ऑनलाइन ध्यान-सत्र आरम्भिक प्रार्थना, पठन तथा चैंटिंग से शुरू हो कर निर्देशित ध्यान के सत्र तथा परमहंस योगानन्दजी की आरोग्यकारी प्रविधि के अभ्यास तथा समापन प्रार्थना पर समाप्त होते हैं।

समय-सारणी (1 अप्रैल 2022 से )

प्रत्येक माह का पहला, तीसरा, और पाँचवां (यदि हो तो) मंगलवार

अँग्रेजी में

शाम 6:10 से 7:30 बजे तक

प्रत्येक माह का दूसरा और चौथा मंगलवार

हिन्दी में

शाम 6:10 से 7:30 बजे तक

इन ध्यान-सत्रों में शामिल होने के लिए कृपया नीचे दिए गए ज़ूम लिंक या यूट्यूब लिंक पर क्लिक करें:

कृपया ध्यान दें: इन ध्यान-सत्रों की रिकॉर्डिंग अब YouTube पर कार्यक्रम के लाइव-स्ट्रीम के 24 घंटे बाद बुधवार, शाम 6:00 बजे ((IST) तक उपलब्ध रहेगी।

नवागंतुक

परमहंस योगानन्दजी और उनकी शिक्षाओं के बारे में और अधिक जानने के लिए नीचे दिए गए लिंक्स पर जाएँ:

शेयर करें