Swami Sri Yukteswar Avirbhav Divas

Commemorative Meditation

Tuesday, May 10, 2022

6:30 a.m.

– 8:00 a.m.

(भारतीय समयानुसार)

कार्यक्रम के विवरण

याद रखें कि ईश्वर-प्राप्ति का अर्थ होगा सभी दु:खों का विनाश।

— स्वामी श्रीयुक्तेश्वर

स्वामी श्रीयुक्तेश्वरजी का जन्म 10 मई, 1855 को भारत में बंगाल के श्रीरामपुर शहर में हुआ था। वे श्री श्री लाहिड़ी महाशय के शिष्य थे और उन्हें श्रद्धापूर्वक ज्ञानावतार की उपाधि से सम्मानित किया जाता है। वे सभी वाईएसएस/एसआरएफ़ भक्तों के परमगुरु हैं।

मंगलवार, 10 मई को स्वामी श्रीयुक्तेश्वरजी के आविर्भाव दिवस के अवसर पर, वाईएसएस संन्यासी के द्वारा सुबह 6:30 से 8:00 बजे तक (भारतीय समयानुसार) एक विशेष ध्यान-सत्र (अंग्रेज़ी में) संचालित किया गया।

इस कार्यक्रम में चैंटिंग, तथा ध्यान की अवधियां और तत्पश्चात एक आध्यात्मिक प्रवचन शामिल थे।

नवागंतुक

परमहंस योगानन्दजी और उनकी शिक्षाओं के बारे में और अधिक जानने के लिए नीचे दिए गए लिंक्स पर जाएँ:

शेयर करें